Friday, 14 February 2014

माँ वारि वारि 
तोतली बोले बालक 
उपजे नेह 

मन के पुष्प 
अर्पित प्रियतम 
छलका प्यार

Thursday, 13 February 2014

       (३)                                                                                                                                                          उचटा मन
खाली खाली सा सूना
जाने क्या हुआ
       (4)
मै हूँ दर्पण
जैसा है वैसा दिखे
हूँ समर्पित
       (5)
स्वचिंतन यूँ
बढ़े यश ब्रह्म का
फैले पताका
      (6)
पीड़ा प्रेमी की
कर्म फल के नाम
भाग्य की भट्टी

       1                                                                                                                                                            गृह गृहित
मानुष दुःख देखे
ईश् विमुख
       2
वैलेंनटाइन
स्नेह सबके लिये
प्यार का दिन