Thursday, 28 August 2014

प्रथम पूज्य विघ्नहर्ता गणेश उत्सव पर मेरे कुछ हाइकु

गौरी सुवन 
मुद मंगल दाता 
गजाननाय 
2
लम्बोदराय
सुख समृद्धि दाता
वक्रतुंडाय
3
विद्या वारिदी
यश बुद्धि विधाता
हे गणपति

4
शंकर सुत 
करूं तेरी वन्दना 
पार लगाना 

प्रथम पूज्य  
रणक धाम विराजे 
दूर्वा से खुश
**********************शान्ति पुरोहित 

Wednesday, 27 August 2014

हाइकु कविता

हाइकु कविता 
***************
प्यासे परिंदे 
धरा पर तरसे 
सूखे तलैया 
मधुप दल 
मृणाल वृंत पर 
गीति मुखर 
कांपते हाथ 
दुआओ का सागर 
बुजुर्ग जन 
तंगी विभूति 
कीचड़ में कमल 
सदा खिलता 
रक्तिम रवि 
अस्ताचल की ओर 
क्लांत श्रांत सा 
****************शान्ति

Monday, 11 August 2014

                                   रक्षा बंधन पर लिखे मेरे तांका



शान्ति पुरोहित 
1
रक्षा बंधन 
बहन की उमंग 
भाई माँ जाया 
लेती बलाए लाखो
सलामत हो भैया 
2
पवित्र धागा 
भाई कलाई बांधे
रक्षा की आस 
स्नेहिल आस्था भैया 
अनूपम सौगात