Tuesday, 19 January 2016

1
सभी जायके
पकवान पे भारी
माँ तेरी रोटी
          2
           यही नियति 
            दुःख जड़ भीतर 
              सुख पलता
                             3
                              अकेला मन 
                                 यादो का मधुबन 
                                  सूखे सुमन

No comments:

Post a Comment